भक्षक फिल्म के सेट पर ऑफ कैमरा भी माहौल सीरियस ही रहता था

मुझे लगता है कि हर किरदार आपसे कुछ ले जाता है और कुछ आपको दे जाता है और ये किरदार उस लिहाज से अव्वल नंबर पर है. फिल्म की शूटिंग करते हुए मानसिक तौर पर आप परेशान हो जाते हैं लेकिन जब ऐसे किरदार आपको करने मिलते हैं, तो आपको लगता है कि हम समाज को अपनी तरफ से कुछ दे रहे हैं. हर कोई अपने काम से समाज को कुछ देना चाहता है, तो यह बात बहुत ही संतोषजनक थी.

Read More at www.prabhatkhabar.com