नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने सुनाई मरे दोस्त की डरावनी कहानी, बोले- मैं रूहों को नहीं मानता हूं लेकिन…

नवाजुद्दीन सिद्दीकी के इंटरव्यू की क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल है। इसे सुनने वाला हर कोई उनके रहस्यमयी दोस्त निर्मल दास के बारे में गूगल कर रहा है। नवाज ने जो कहानी सुनाई, वो वाकई हैरान करने वाली है। यह उनके एक मानसिक रूप से विक्षिप्त दोस्त की है। कई लोगों ने यह बताया कि जब वह उसके बारे में सोचते तो वह वहां दिख जाता था। नवाज, पीयूष मिश्रा सहित कई लोगों के साथ ऐसा हुआ।

हर आदमी पर शक करने लगा था

नवाजुद्दीन ने बॉलीवुड बबल को बताया, मेरा खुद का दोस्त था निर्मल दास नाम था उसका। वो पागल हो गया उसके बाद गुजर गया। वो गुजरा कहां ये तो पता नहीं। पर जो पागल हुआ वो मुझे पता है। पूरी प्रॉसेस धीरे-धीरे से जो है उसका पागलपन बढ़ता चला गया। मैं उसके साथ रहा भी हूं। वह बहकी-बहकी सी बातें करने लगा था। एक अजीब सी फैंटसी में रहता था। अजीब सी एक दुनिया बना ली थी और अजीब सी बातें करता था। हर आदमी पर शक करने लगा कि ये मुझे मारना चाहता है। हमें रियलाइज होने लगा कि ये धीरे-धीरे हाथ से निकल गया।

रात में 3 बजे डरे नवाज

नवाज आगे बताते हैं कि लोग धीरे-धीरे करके उसे छोड़कर जाने लगे। नवाज ने उसे कुछ दिन अपने साथ रखा। नवाज ने बताया, जब मैं जाता था तो पता चलता था कि नीचे जो दुकानें थीं उनसे लड़ने लगा तो डर लगने लगा। एक बार तो मैं रात को सो रहा था, 3 बजे के आसपास मेरी आंख खुली तो उसका चेहरा मेरे चेहरे के ऊपर था। रात की 3 बजे आपकी आंख खुल जाए और एक आदमी आपको ऐसे देख रहा है तो आपकी तो हालत खराब हो जाएगी। फिर उसको हम लोगों ने पैसे इकट्ठे करके दिल्ली छोड़ आए।

दिल्ली से मुंबई कैसे पहुंचे निर्मल दास?

नवाज ने बताया, एक बार मैं और मेरा दोस्त एनएसडी गए, वो भी दिल्ली का था। निर्मल वहां मिला और बोला, और नवाज कैसा है? सब ठीक बढ़िया। नॉर्मली बातें करता था, ऐसा नहीं कि लंबी दाढ़ी हो गई। बोला, 100 रुपये देना मुझे। मैंने दे दिए। बहुत सारे लोग थे जो उसे पैसे दे देते थे। हमने पश्चिम एक्सप्रेस पकड़ी और हम मुंबई आ गए। मुंबई में हमने कपड़े चेंज किए, नहाए, फिर हमें वर्सोवा बीच पर जाना था। जैसे ही हम बाइक पर बैठकर जा रहे थे। साइड में मैंने देखा निर्मल दास। हमें लगा अभी तो इसको दिल्ली में छोड़कर आ रहे थे, ये यहां। नवाज बोले, मेरे साथ ये सच में हुआ है। नवाज ने यह भी बताया कि वह निर्मल को पैसे देकर सीधे ट्रेन में बैठ गए थे।

कई लोगों को दिखे निर्मल दास

नवाज ने बताया कि कई लोगों का ऐसा कहना था। पीयूष मिश्रा ने बताया था कि एक बार वह लंदन गए। एयरपोर्ट पर थे। अचानक से उनके मन में निर्मल दास का विजुअल आया। वह जैसे ही मुंबई लैंड हुए एयरपोर्ट पर उन्हें सामने निर्मल दास दिखा। इस तरह की चीजें होने लगी थीं। नवाज बताते हैं कि उनकी एक जूनियर हैं वो घर में बैठी थीं। उन्होंने निर्मल दास का कोई प्ले देखा होगा तो वह उनके दिमाग में आया। वह गाड़ी में बैठकर निकलीं तो देखा कि निर्मल दास खड़ा है। कई लोगों के साथ ऐसा अजीब सा हो रहा था। कुछ समय बाद हमें पता चला कि वह गुजर गए। नवाज ने यह भी कहा कि वह भूत-प्रेत, रूह वगैरह में नहीं मानते पर उनके साथ यह घटना हुई है।

Read More at www.livehindustan.com