Lok Sabha Elections 2024: आखिर कांग्रेस से क्यों हो रहा है नेताओं का मोहभंग, दो दिन में तीन नेताओं ने छोड़ा हाथ का साथ

Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव 2024 के शंखनाद के बाद कांग्रेस को एक के बाद एक बड़े झटके लग रहे हैं। कांग्रेस के दिग्गज नेता लगातार पार्टी छोड़ रहे हैं। चुनाव से पहले कांग्रेस नेताओं का पार्टी छोड़ना पार्टी को मुसीबत में डाल सकती है। बीते ​दों दिनों में कांग्रेस के तीन ​नेताओं ने पार्टी छोड़ दी है। इससे पहले भी कई दिग्गज नेताओं ने कांग्रेस का साथ छोड़ बीजेपी में शमिल हो गए।

पढ़ें :- TMC, लेफ्ट और कांग्रेस का इंडी गठबंधन सिर्फ झूठ और अफवाह की राजनीति में जुटा है: पीएम मोदी

दरअसल, सबसे बड़ी बात ये है कि इन नेताओं के कांग्रेस छोड़ने के बाद पार्टी पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। कांग्रेस नेता गौरव वल्लभ ने पार्टी छोड़ते ही कांग्रेस पर सनातन विरोधी होने का आरोप लगा दिया है। इन नेताओं के आरोपों के बाद पार्टी के सामने कई चुनौतियां आ रहीं हैं। आइए जानते हैं कि हाल के दिन में कांग्रेस के कौन कौन नेताओं ने पार्टी छोड़ी है….

विजेंदर सिंह: बॉक्सर विजेंदर सिंह बुधवार को कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए। बीजेपी में शामिल होने से ठीक एक दिन पहले तक मुक्केबाजी में भारत के पहले ओलंपिक पदक विजेता विजेंदर सिंह पूरी तरह से कांग्रेसी थे और भाजपा सरकार से सवाल पूछ रहे थे। हालांकि, अब उन्होंने भाजपा ज्वॉइन कर ली है।

संजय निरुपम: महाराष्ट्र कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे संजय निरुपम भी अपना अलग रास्ता बना लिए हैं। बीते ​कई दिनों से लगातार वो बागी तेवर अपनाए हुए थे। इसके बाद कांग्रेस ने उन पर कार्रवाई करते हुए निष्कासित कर दिया। गुरुवार को उन्होंने प्रेस कॉफ्रेंस करते हुए कहा कि, कांग्रेस पूरी तरह से दिशाहीन हो चुकी है। यह एक बिखरी हुई पार्टी है। इसके बाद निरुपम ने कहा कि पार्टी में पहले एक पावर सेंटर हुआ करता था। अब पार्टी में एक नहीं बल्कि पांच पावर सेंटर हैं और पांचों की अपनी लॉबी है जो आपस में टकराती रहती है। इन पांचों सेंटर में सबसे पहले सोनिया गांधी हैं, दूसरे सेंटर में राहुल गांधी, तीसरे में प्रियंका गांधी, चौथे में अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे और आखिरी में कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल जी हैं। यह सब अपने प्रकार से राजनीति कर रहे हैं।

गौरव वल्लभ: गौरव वल्लभ ने गुरुवार को पार्टी की सदस्यता से ​इस्तीफा दे दिया है। इसके बाद वो भाजपा में शामिल हो गए। कांग्रेस छोड़ने के बाद उन्होंने कई आरोप लगाए हैं। इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस पर सनातन विरोध का आरोप लगाया है। अपने इस्तीफे में उन्होंने कहा, कांग्रेस पार्टी आज जिस प्रकार से दिशाहीन होकर आगे बढ़ रही है, उसमें मैं खुद को सहज महसूस नहीं कर पा रहा। मैं ना तो सनातन विरोधी नारे लगा सकता हूं और ना ही सुबह-शाम देश के वेल्थ क्रिएटर्स को गाली दे सकता। इसलिए मैं कांग्रेस पार्टी के सभी पदों व प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफ़ा दे रहा हूं।

पढ़ें :- विपक्ष के नेताओं पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हैं, फिर उन्हें ही अपनी पार्टी में शामिल कर लेते हैं…कांग्रेस अध्यक्ष का पीएम मोदी पर हमला

 

Read More at hindi.pardaphash.com