WhatsApp Banned More than 76 Lakh Accounts what is the reason new record know details here

वॉट्सऐप के मुताबिक, ऐप ने 1 से 29 फरवरी के बीच 76 लाख 28 हजार अकाउंट बैन किए गए हैं, जिनमें से 14 लाख 24 हजार अकाउंट को प्रोएक्टिवली बैन किया है. इन अकाउंट्स को बैन करने के पीछे की वजह शिकायत रिपोर्ट प्राप्त करना है. फरवरी में देश में 16 हजार 618 शिकायत रिपोर्ट की गई थीं.

वॉट्सऐप के मुताबिक, ऐप ने 1 से 29 फरवरी के बीच 76 लाख 28 हजार अकाउंट बैन किए गए हैं, जिनमें से 14 लाख 24 हजार अकाउंट को प्रोएक्टिवली बैन किया है. इन अकाउंट्स को बैन करने के पीछे की वजह शिकायत रिपोर्ट प्राप्त करना है. फरवरी में देश में 16 हजार 618 शिकायत रिपोर्ट की गई थीं.

WhatsApp यूजर्स की बात करें तो भारत में अभी 500 मिलियन से ज्यादा यूजर्स हैं. यूजर्स के लिए ये चीज सबसे ज्यादा जरूरी है कि उसे पता हो कि आखिर किन वजहों से ये कार्रवाई की जा सकती है. इनमें कई चीजें शामिल हैं, चाहे वो वॉट्सऐप की टर्म्स ऑफ सर्विस ब्रेक करना हो या फिर किसी विवादित कंटेट पेश करना हो.

WhatsApp यूजर्स की बात करें तो भारत में अभी 500 मिलियन से ज्यादा यूजर्स हैं. यूजर्स के लिए ये चीज सबसे ज्यादा जरूरी है कि उसे पता हो कि आखिर किन वजहों से ये कार्रवाई की जा सकती है. इनमें कई चीजें शामिल हैं, चाहे वो वॉट्सऐप की टर्म्स ऑफ सर्विस ब्रेक करना हो या फिर किसी विवादित कंटेट पेश करना हो.

यूजर्स के लिए यह जानना आवश्यक है कि अगर वो कोई जानकारी शेयर कर रहे हैं तो उन्हें काफी सावधान रहने की जरूरत है. एक गलती की वजह से उनका अकाउंट सस्पेंड किया जा सकता है. इसके अलावा विवादित कंटेट शेयर करने से हमेशा बचना चाहिए.

यूजर्स के लिए यह जानना आवश्यक है कि अगर वो कोई जानकारी शेयर कर रहे हैं तो उन्हें काफी सावधान रहने की जरूरत है. एक गलती की वजह से उनका अकाउंट सस्पेंड किया जा सकता है. इसके अलावा विवादित कंटेट शेयर करने से हमेशा बचना चाहिए.

अगर आप कुछ ऐसा करते हैं, जो कि कंपनी की पॉलिसी का उल्लंघन करता हो तो आपको बैन किया जा सकता है. थर्ड पार्टी कॉपीराइट, ट्रेडमार्क और अन्य पॉलिसी को ब्रेक करना भी यूजर्स को भारी पड़ सकता है.

अगर आप कुछ ऐसा करते हैं, जो कि कंपनी की पॉलिसी का उल्लंघन करता हो तो आपको बैन किया जा सकता है. थर्ड पार्टी कॉपीराइट, ट्रेडमार्क और अन्य पॉलिसी को ब्रेक करना भी यूजर्स को भारी पड़ सकता है.

आमतौर पर देखा जाता है कि स्कैमर्स बैंक के नाम से अकाउंट बनाकर यूजर्स के साथ ठगी करने का प्रयास करते हैं तो इसके तहत उन पर कार्रवाई की जा सकती है. ऐसे में वॉट्सऐप की टर्म्स ऑफ सर्विस ब्रेक करने पर यूजर्स के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है.

आमतौर पर देखा जाता है कि स्कैमर्स बैंक के नाम से अकाउंट बनाकर यूजर्स के साथ ठगी करने का प्रयास करते हैं तो इसके तहत उन पर कार्रवाई की जा सकती है. ऐसे में वॉट्सऐप की टर्म्स ऑफ सर्विस ब्रेक करने पर यूजर्स के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है.

Published at : 03 Apr 2024 12:08 PM (IST)

टेक्नोलॉजी फोटो गैलरी

टेक्नोलॉजी वेब स्टोरीज

Read More at www.abplive.com