खरमास कब खत्म हो रहे हैं, अप्रैल में किस दिन से शुरू होंगे मांगलिक कार्य जानें

Kharmas 2024: सूर्य देव को ग्रहों का राजा माना जाता है. साल में सूर्य 12 राशियों में क्रमवार गोचर करते हैं. अभी सूर्य देव गुरु बृहस्पति की राशि मीन में हैं. जब सूर्य मीन या धनु राशि में होते हैं तो खरमास लग जाता है.

खरमास के एक महीने में सभी मांगलिक कार्यों पर रोक लग जाती है. 14 मार्च से खरमास की शुरुआत हुई थी अब इसकी समाप्ति कब होगी. जानें अप्रैल 2024 में खरमास का कब समापन होगा, किस दिन से शुरू होंगे मांगलिक काम. जानें

खरमास 2024 (Kharmas 2024 End Date)

पंचांग के अनुसार, इस बार 14 मार्च से खरमास शुरू हुए थे अब 13 अप्रैल 2024 को इसका समापन हो रहा है. इस दिन सूर्य मेष राशि में प्रवेश करेंगे. इसी दिन मेष संक्रांति मनाई जाएगी साथ ही साल 2024 के सौलर नववर्ष की शुरुआत होगी.

चैत्र नवरात्रि में खरमास का साया (Kharmas 2024 in Chaitra navratri)

इस बार 09 अप्रैल से चैत्र नवरात्र शुरू होंगे और 17 अप्रैल को समापन होगा. ऐसे में चैत्र नवरात्रि की घटस्थापना से लेकर पांचवे दिन तक खरमास भी रहेंगे. आमतौर पर चैत्र नवरात्रि में लोग मांगलिक कार्य, गृह प्रवेश, नए बिजनेस की शुरुआत, सगाई, शादी,  वाहन, प्रॉपर्टी आदि की खरीदारी करते हैं लेकिन खरमास की अवधि में ये काम वर्जित होते हैं. ऐसे में नवरात्रि में 9-13 अप्रैल तक सभी मांगलिक काम पर रोक रहेगी.

खरमास में नहीं होते ये काम

हिंदू धर्म में महीने के दौरान भक्ति और त्याग का महत्व होता है, और लोग अधिक पुण्य करने का प्रयास करते हैं. खरमास के समय शादी, गृह प्रवेश, नए मकान का काम शुरू करना, नामकरण संस्कार, नये काम आरंभ करना आदि. खरमास में कोई महत्वपूर्ण विवाह या उपनयन का कार्य नहीं किया जाता. मान्यता है इससे शुभ फल की प्राप्ति नहीं होती है.

खरमास में क्या करना चाहिए

खरमास की अवधि में दान-पुण्य को विशेष महत्व दिया गया है. इसलिए किसी शुभ अवसर पर जरूरतमंद व्यक्ति को भोजन, वस्त्र या धन का दान जरूर करना चाहिए. ऐसा करने से कई प्रकार के दोष दूर होते हैं.

Cheti Chand 2024: क्यों मनाते हैं चेटी चंड ? अप्रैल 2024 में कब है ये पर्व, जानें डेट और महत्व

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें. 

Read More at www.abplive.com