Aaj Ka Panchang 2 april 2024 sheetala ashtami Muhurat yoga Rahu Kaal time Tithi Grah Nakshatra

Today Panchang, Aaj Ka Panchang 2 april 2024: पंचांग के अनुसार 2 अप्रैल 2024 आज शीतला अष्टमी मनाई जाती है. आज संतान की सलामती, सुरक्षा, रोगों से मुक्ति के लिए आरोग्य की देवी शीतला की पूजा की जाती है. शीतला माता को दही, मीठे चावल, पूड़ी, रबड़ी चढ़ाएं. कहते हैं इससे सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है. परिवार में हर सदस्य निरेगी रहता है. 

आज मंगलवार पीपल के पत्ते की माला बनाकर उसमें श्रीराम लिखें और हनुमान जी को अर्पित करें. पीपल के पत्ते न मिले ता कागज पर ये काम करें और माला बनाएं. कहते हैं इससे आर्थिक संकट से निजात मिलती है. आइए जानते हैं आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त, राहुकाल, शुभ योग, ग्रह परिवर्तन, व्रत-त्योहार, तिथि आज का पंचांग (Panchang in Hindi)

2 अप्रैल 2024 का पंचांग














तिथि अष्टमी (1 अप्रैल 2024, 09.09 – 2 अप्रैल 2024, रात 08.08)
पक्ष कृष्ण
वार मंगलवार
नक्षत्र मूल
योग पूर्वाषाढ़ा
राहुकाल दोपहर 03.32 – शाम 05.06
सूर्योदय सुबह 06.10 – शाम 06.40
चंद्रोदय देर रात 02.21 – सुबह 11.35, 3 अप्रैल
दिशा शूल
उत्तर
चंद्र राशि
धनु
सूर्य राशि मीन

2 अप्रैल 2024 शुभ मुहूर्त (Shubh Muhurat)









ब्रह्म मुहूर्त सुबह 04.38- सुबह 05.24
अभिजित मुहूर्त दोपहर 12.00 – दोपहर 12.50
गोधूलि मुहूर्त शाम 06.39 – शाम 07.02
विजय मुहूर्त दोपहर 02.30 – दोपहर 03.20
अमृत मुहूर्त
शाम 06.05 – रात 07.40
निशिता काल मुहूर्त प्रात: 12.01 – दोर रात 12.47, 3 अप्रैल

2 अप्रैल 2024 अशुभ मुहूर्त (Aaj Ka Ashubh Muhurat)

  • यमगण्ड – सुबह 09.17 – सुबह 10.51
  • गुलिक काल – दोपहर 12.25 – दोपहर 01.59
  • अडाल योग – सुबह 06.10 – रात 10.49

आज का उपाय

ज्योतिष अनुसार परिवार में सुख-समृद्दि बनाए रखने के लिए, बुरी नजर से बचाने के लिए मंगलवार के दिन एक छोटा-सा मिट्टी का बर्तन ले आएं. इसके बाद इस बर्तन में शहद जालें और  ढक्कन लगाकर हनुमान जी के मंदिर में रख आएं. 

Devshayani Ekadashi 2024 Date: देवशयनी एकादशी 2024 में कब ? नोट करें डेट, मुहूर्त, इस दिन से शुरू होगा चातुर्मास

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Read More at www.abplive.com